शहर भर में सट्टेबाजों और जुआरियों के लग रहे दांव, बहराइच की मित्र पुलिस को नहीं आ रहे नज़र

सुभाष चन्द्र यादव

बहराइच। गौतम और गाज़ी की इस सरज़मीन पर इन दिनों गली कूचों में धड़ल्ले से जुआवरियों और सट्टेबाजों का जमावड़ा लग रहा है। यह जमावड़ा किसी मेले से कम नहीं दिखता है। दिन रात शहर की कई ऐसी गलियां हैं जिनमें खुले आम पत्ते फेंटे जा रहे हैं जिससे स्कूली छात्र भी अब प्रभावित हो रहे हैं। वहीं अपराधियों की धर पकड़ के लिये गश्त पर गश्त करने के दावे करने वाली जिले की पुलिस को गली मोहल्लों में हो रहे जुआरियों के जमावड़े दिख नहीं रहे हैं या हमारी मित्र पुलिस इन्हें देख कर भी अनदेखा कर निकल जाए रही है इसकी असल हकीकत तो वह ही जानें लेकिन एक बात तो साफ है कि इस तरह से जुआरियों और सट्टेबाजों के जमावडों से कम उम्र के बच्चों का भी भविष्य बर्बाद हो रहा है। इन जमावड़ों पर खड़े होकर जुआ और सट्टे का खेल देख कर मासूम भी इसी राह में बढ़ रहे हैं लेकिन शायद अंदर खाने के तालमेल ने जिले की पुलिस हाथों को जकड़ रखा है तभी इन सटोरियों और जुआरियों पर पुलिस हाथ तक डालना उचित नहीं समझ रही है। ज्ञात हो कि शहर बहराइच मे शहर कोतवाली और चौकी चौक क्षेत्रों सहित कई ऐसे स्थान हैं जहां जुआरियों और सटोरियों का जमावड़ा लग तो रहा है लेकिन प्रशासन इन पर कार्यवाही करने से बच रहा है। शहर के बीचो बीच स्थित यूपी ग्रामीण बैंक के पीछे बियर की दुकान के पास ही मटका लाट्री के नाम पर सट्टेबाजी धड़ल्ले से चल रही है। जिसकी भीड़ लगभग हर समय इस जगह पर देखी जा सकती है। आपको यह भी बताते चलें कि इस जगह से महज 50 मीटर की दूरी पर प्राथमिक विद्यालय संचालित हो रहा है। लाट्री की आड़ मे सटटा खिलाने वाले बेखौफ होकर शहर के बीचो बीच आमजन और बच्चों तक के भविष्य को अंधकारमय कर रहे हैं। मित्र पुलिस की खामोश साफ इशारा कर रही है कि इन सटोरियों और जुआरियों को अंदर खाने से संरक्षण दिया जा रहा है। अपराधियों को पकड़ सराहनीय कार्यों का प्रेसनोट जारी करने वाली पुलिस खुलेआम लाट्री खिलाने वालों पर आखिर क्यों नहीं डाल रही है हाथ। वहीं शहर के अन्य हिस्सों जैसे ब्रह्मनीपुरा, स्टीलगंज तालाब, गुदड़ी, सलारगंज, मंसूरगंज, सहित कई ऐसे मोहल्लों हैं जिनकी गली कूचों में जुआरियों और सटोरियों का जमावड़ा दिन भर लग रहा है लेकिन पुलिस इन पर अंकुश लगा पाने में नाकाम साबित हो रही है।

The Most Recommended ICBB PDF Ebook For Lean Six Sigma Black Belt

http://www.passexamcert.com IASSC ICBB PDF Ebook Me How do Lean Six Sigma Black Belt ICBB you call a happy divorce IASSC ICBB PDF Ebook Nedra The house is yours, the cabins of IASSC Certified Lean Six Sigma Black Belt Lake Tahoe are owned by me, and the apartments in Maui ICBB PDF Ebook are shared. IASSC ICBB PDF Ebook He announced to the people in the store. Ye Green looked up and the younger brother stared at her intently.

One of the first flew runners came to Tseng Kuo fan front, arresting the Lean Six Sigma Black Belt ICBB chain to the two men s head and a sharp, sharp shy This time IASSC Certified Lean Six Sigma Black Belt there is rice pan, thanks two God Back Yamen with Grandpa. Purport With Tseng Kuo fan now and the Department of the Department of the left assistant minister, looking at the assistant minister one for the IASSC ICBB PDF Ebook public, loyal to the country, co Hua Shana whole country official management. Long live God as today s son, is also ICBB PDF Ebook a famous dutiful son, Long live the Lord know how to do. Zeng IASSC ICBB PDF Ebook IASSC ICBB PDF Ebook Guofan ICBB PDF Ebook IASSC ICBB PDF Ebook suspiciously back to the site.After dinner, my colleagues, their men, students, so officials, a full 32 people, all seated chair to visit him.

Moreover, the current situation is not conducive to oneself. Everyone IASSC ICBB PDF Ebook thought that national cadres and workers were the work of the eight books. Why are you IASSC ICBB PDF Ebook embarrassed to go Because the oil on Liu Haizhu s body and hands should be washed, it will definitely be able to wash down two Lean Six Sigma Black Belt ICBB kilograms IASSC ICBB PDF Ebook of oil. IASSC Certified Lean Six Sigma Black Belt Of course, ICBB PDF Ebook Chen Baige IASSC ICBB PDF Ebook was testking originally a good show for everyone, but this is a good show in the catastrophe of the past few years.

Please follow and like us:
20

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enjoy this blog? Please spread the word :)